Thursday, May 23, 2024
HomeBikanerलोकसभा चुनाव का बजा डंका, राजस्थान सहित देशभर में इस दिन होगा...

लोकसभा चुनाव का बजा डंका, राजस्थान सहित देशभर में इस दिन होगा मतदान

Facility to make card at office or home available

लोकसभा चुनाव का बजा डंका, राजस्थान सहित देशभर में इस दिन होगा मतदान

लोकसभा चुनाव का बजा डंका, राजस्थान सहित देशभर में इस दिन होगा मतदान
नई दिल्ली। चुनाव की तारीखों का ऐलान करते हुए देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त राजीव कुमार ने कहा कि चुनाव का पर्व, देश का गर्व है. उन्होंने कहा कि मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल 16 जून को खत्म हो रहा है. सभी राज्यों में समीक्षा करने के बाद हम एक यादगार और निष्पक्ष चुनाव सभी की भागीदारी के साथ सुनिश्चित कराएंगे. हमारे पास 97 करोड़ रजिस्टर वोटर हैं. 10.5 लाख पोलिंग स्टेशन हैं. अब तक हम 17 लोकसभा चुनाव और 400 से ज्यादा राज्य चुनाव करा चुके हैं.

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि पिछले एक साल साल के भीतर करीब 11 चुनाव कराए गए हैं. हर जगह शांतिपूर्वक चुनाव हुए. कोर्ट केसेस कम हुए. फेक न्यूज पर एक्शन लेने के तरीके में बढ़ोतरी हुई है. भारत के चुनाव पर पूरी दुनिया की नजर है. 1.82 करोड़ नए वोटर इस बार जुड़े हैं. 49.7 करोड़ पुरुष वोटर और 47.1 करोड़ महिला वोटर हैं. 82 लाख लोग ऐसे हैं जो 85 साल से ऊपर के हैं. 2 लाख 18 हजार लोग ऐसे हैं जिनकी उम्र 100 से अधिक है. 1.82 करोड़ फर्स्ट टाइम वोटर हैं.

ें तमिलनाडु, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर में चुनाव होंगे।
7 फेज में होंगे लोक सभा चुनाव
फेज 1- 28 मार्च नोटिफिकेशन जारी होगा। विदड्रॉल 30 मार्च, 19 अप्रैल को वोटिंग होगी। बिहार में लास्ट डेट विदड़्रॉल 2 अप्रैल को होगी। 4 जून को काउंटिंग होगी।
लोकसभा चुनाव के साथ ही 4 राज्यों में विधानसभा चुनाव
4 राज्यों में विधानसभा चुनाव हैं। सिक्किम 2 जून, 32 सीट, ओडिशा 24 जून, 107 सीट, अरुणाचल 60 असेंबली सीट, आंध्र प्रदेश में विधानसभा चुनाव एकसाथ कराए जाएंगे।
उप चुनाव 26 विधानसभाओं में होना है
बाइ इलेक्शन- 26 असेंबली में बाईपोल होना है। बिहार, गुजरात, हरियाणा, झारखंड, त्रिपुरा, वेस्ट बंगाल, हिमाचल, राजस्थान, कर्नाटक तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश में बाईपोल होना हैं। 26-26 वैकेंसी पूरी कर रहे हैंं। ये पार्लियामेंट्री इलेक्शन के साथ होंगे।
बशीर बद्र का शेर पढ़ा
मैं राजनीतिक दलों से अपील करता हूं कि डेकोरम मेंटेन रखें। अपनी स्पीच में निजी हमले ना करें। बद्र साहब का शेर- दुश्मनी जमकर करो, लेकिन ये गुंजाइश रहे, जब कभी हम दोस्त हो जाएं तो शर्मिंदा ना हों।
वैसे भी आजकल जल्दी-जल्दी दोस्त बनने और जल्दी-जल्दी दुश्मन बनने की प्रक्रिया चल रही है।

जैसी समस्या वैसा समाधान

चुनाव के दौरान बीते ११ सालों में ३४०० करोड़ रुपए के कैश मूवमेंट को रोका गया है। कुछ राज्यों में हिंसा ज्यादा है, कुछ में धनबल ज्यादा है, किसी में भौगोलिक समस्या है। जिस राज्य में जैसी समस्या है, हम उसे उसी तरह से ट्रीट कर रहे हैं। धन का गलत इस्तेमाल नहीं होने देंगे।

हम हिंसा मुक्त चुनाव देना चाहते हैं

बापू ने कहा था- मैं हिंसा का विरोध करता हूं, क्योंकि उससे मिला समाधन कम वक्त के लिए होता है, नफरत हमेशा के लिए होती है।
शिकायत, गड़बड़ी पर हमेशा नजर
हर जिले में कंट्रोल रूम है। टीवी, सोशल मीडिया, वेबकास्टिंग, 1950 और सी विजिल पर शिकायत की व्यवस्था की गई है। एक सीनियर अफसर हमेशा इन 5 चीजों पर नजर रखेगा। जहां शिकायत मिलेगी, सख्त कार्यवाही की जाएगी।
हमने सभी अफसरों को निर्देश दिए हैं, हिंसा ना होने दें। नॉन बेलेबल वारंट को पुलिस एक्जिक्यूट कर रही है। इंटरनेशनल, इंटर स्टेट्स बॉर्डर पर कड़ी नजर रखी है। ड्रोन से चेकिंग की जा रही है।
शिकायत मिलते ही 100 मिनट में मौके पर पहुंचेगी टीम
सी-विजिल ऐप में किसी को शिकायत करनी है, कहीं पैसा या गिफ्ट बांटी जा रही है। बस फोटो खींचिए और हमें भेजिए। आप कहां खड़े हैं हम जान जाएंगे। 100 मिनट के भीतर अपनी टीम भेजकर शिकायत का निराकरण करेंगे।
वोटर अपने मोबाइल नंबर से जानकारी हासिल कर सकता है। ्यठ्ठश2 4शह्वह्म् ष्ड्डठ्ठस्रद्बस्रड्डह्लद्ग से अपने प्रत्याशी के बारे में भी वोटर्स देख सकते हैं। जिसका क्रिमिनल रिकॉर्ड है, उसे 3 बार न्यूज पेपर, टीवी में भी देना पड़ेगा। पॉलिटिकल पार्टी को बताना होगा कि उन्हें दूसरा कैंडिडेट क्यों नहीं मिला।
85+ उम्र वालों और दिव्यांगों के लिए घर से वोट की सुविधा
85 साल से ज्यादा उम्र वाले जितने वोटर हैं और जो दिव्यांग वोटर्स हैं उनके वोट हम घर जाकर लेंगे। नॉमिनेशन से पहले उनके घर फॉर्म पहुंचाएंगे। इस बारे पूरे देश में यह व्यवस्था एकसाथ लागू होगी।
पुरुषों से ज्यादा महिला वोटर्स
12 राज्यों में एक हजार से ऊपर जेंडर रेशयो है। महिला वोटर्स की संख्या पुरुषों से ज्यादा है। 1.89 करोड़ नए वोटर्स में से 85 लाख महिलाएं हैं। जिस किसी की उम्र 1 जनवरी 2024 को 18 साल नहीं हुई थी, उसका भी नाम हमने एडवांस लिस्ट में लिया। 13.4 लाख एडवांस एप्लीकेशन हमारे पास आई है। 5 लाख से ज्यादा लोग 1 अप्रैल से पहले वोटर बन जाएंगे।
1.82 करोड़ फस्र्ट टाइम वोटर्स
अभी जो इलेक्ट्रल साइकिल है, उसमें क्या तैयारी की है, वो बताना चाहते हैं। 96.8 करोड़ इलेक्टर्स हैं। 49.7 करोड़ मेल, 47 करोड़ फीमेल हैं। 1.82 करोड़ फस्र्ट टाइम वोटर्स हैं। 18-29 साल के 19.74 करोड़ वोटर्स हैं।
ये सभी अपना फ्यूचर खुद तय करेंगे। 88.4 लाख लोग दिव्यांग हैं और वो वोट डालेंगे। 82 लाख लोग 85 साल से ऊपर हैं। 2.18 लाख 100 साल से ज्यादा उम्र के हैं। 48 हजार ट्रांसजेंडर्स हैं।
सवा साल में 11 चुनाव हुए
पिछले सवा साल के भीतर 11 इलेक्शन हुए हैं। सभी शांतिपूर्ण तरीके से हुए हैं। कोर्ट केस, कोर्ट की टिप्पणियां कम हुईं। फेक न्यूज पर एक्शन लेने का तरीका बहुत मजबूत हुआ है। पिछले 2 साल में हमने इसे और मजबूत किया है। हम कहां पहुंचना चाहते हैं, ये भी आपको दिखाएंगे।
97 करोड़ वोटर हैं
97 करोड़ वोटर है। 10.5 लाख पोलिंग स्टेशन, 1.5 करोड़ पोलिंग अफसर, 55 लाख ईवीएम, 4 लाख व्हीकल। 400 से ज्यादा असेंबली इलेक्शन हम कर चुके हैं। 16-16 प्रेसिडेंशियल और वाइस प्रेसिडेंशियल इलेक्शन कर चुके हैं।
ये ऐतिहासिक मौका है: मुख्य चुनाव आयुक्त
उन्होंने कहा- एक बार फिर भारतीय मिलकर अपनी इच्छा जाहिर करेंगे। ये ऐतिहासिक मौका है। दुनिया के सबसे बड़े और सबसे जीवंत लोकतंत्र के रूप में भारत पर सभी का ध्यान केंद्रित रहता है। देश के सभी हिस्से इसमें शामिल होते हैं। चुनाव का पर्व-देश का गर्व।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments